‘100 सालों में धरती छोड़ दे इंसान वरना जिंदा रह पाना होगा मुश्किल!’

‘100 सालों में धरती छोड़ दे इंसान वरना जिंदा रह पाना होगा मुश्किल!’
March 01 08:41 2017 Print This Article

नई दिल्ली : जलवायु परिवर्तन को लेकर दुनिया के महान भौतिकशास्त्री स्टीफन हॉकिंग ने मानव जाति के लिए एक गंभीर तरह की चेतावनी चेतावनी जारी की है. उनका कहना है कि जलवायु परिवर्तन, बढ़ती आबादी और उल्का पिंडों के टकराव से खुद को बचाए रखने के लिए मनुष्य को दूसरी धरती खोजनी होगी. अगर ऐसा नहीं कर पाये तो 100 साल बाद पृथ्वी पर मानव जाति का बचे रहना मुश्किल होगा.
बीबीसी की डॉक्यूमेंट्री ‘एक्पेडिशन न्यू अर्थ’ में स्टीफन हॉकिंग और उनके छात्र रहे क्रिस्टोफ गलफर्ड बाहरी दुनिया में मानव जाति के लिए जीवन की तलाश करते नजर आएंगे. इसी डॉक्यूमेंट्री में हॉकिंग ने दावा किया है कि मानव जाति को अगर जिंदा रहना है तो उसे किसी अन्य जगह पर जीवन की तलाश करनी होगी.
अंग्रेजी अखबार द टेलीग्राफ के मुताबिक, बीबीसी के इस शो का मकसद ब्रिटेन के सबसे बेहतरीन अविष्कार की खोज करना है. इसमें लोगों से ये पूछा जाएगा कि किस अविष्कार ने उनके जीवन को सबसे ज्यादा प्रभावित किया है. यह डॉक्यूमेंटरी बीबीसी के विज्ञान आधारित शो टूमारोज वर्ल्ड का हिस्सा है.
पिछले महीने भी हॉकिंग ने चेताया था कि तकनीकी विकास के साथ मिलकर मानव की आक्रामकता ज्यादा खतरनाक हो गई है. यही प्रवृति परमाणु या जैविक युद्ध के जरिए हम सबका विनाश कर सकती है. उनका कहना था कि एक वैश्विक सरकार ही हमें इससे बचा सकती है. वरना मानव बतौर प्रजाति जीवित रहने की योग्यता खो सकता है.
उल्लेखनीय है कि स्टीफन हॉकिंग 75 साल के हैं और मोटर न्यूरोन नाम की बीमारी से पीड़ित हैं. इसलिए वह बोल नहीं सकते हैं और शारीरिक रूप अक्षम भी हैं. हालांकि इंटेल की ओर से बनाई गई एक खास मशीन के जरिए वह दुनिया तक अपनी बातों को रखने में सक्षम हैं और अपने अविष्कार से लोगों को रू-ब-रू कराते रहते हैं.

अभी कोई कमेन्ट नही!

कमेन्ट लिखें

Your data will be safe! Your e-mail address will not be published. Also other data will not be shared with third person.
All fields are required.