“चाय स्टोरिज“ शॉर्ट टाइम में बड़ा संदेश

“चाय स्टोरिज“ शॉर्ट टाइम में बड़ा संदेश
July 01 13:37 2017 Print This Article

हरीश बाबू  

“चाय स्टोरिज“ जैसा नाम वैसा काम यानि कि जितना समय आपको चाय पीने में लगता है, उतने ही समय में आप एक शॉर्ट मूवीज सोशल मैसेज के साथ देख सकते हैं। इस थॉट प्रोसेस को रियलिटी में उतारा कुछ युवाओं ने। स्टार्टअप “चाय स्टोरिज“ एक ऐसा नाम है, जिसने इस सपने को सच कर दिखाया है। यह एक ऐसे युवाओं की क्रिएटिविटी का रिजल्ट है, जो ऑनलाइन प्लेटफॅार्म पर आज कल बड़ा ही धमाल मचाये हुए है और यही नहीं लोगों तक सोशल ईश्यू पर एंटरटेनमेंट के साथ संदेश भी पहुंचाता है। “चाय स्टोरिज“ की शॉर्ट फिल्मों का टाईम भले ही ज्यादा न हो, लेकिन उसका मैसेज बहुत बड़ा होता है।

वैसे “चाय स्टोरिज“ ने अपना सफर 3 साल पहले शुरू किया। फाउंडर टीम मेम्बर्स अभिनय सोनी, मिनहाज अब्दुल्ला और देवेश गौतम ने शॉर्ट फिल्म के कॉन्सेप्ट को शुरू किया था। तीनों ने भोपाल में पढ़ते हुए अपने सफर की शुरूआत की। वे अपनी शॉर्ट फिल्म का सब्जेक्ट जनरल ऑडियंस से ही लेते हैं, लेकिन उसे प्रेजेंट करने का तरीका क्रिएटिव होता है, जो लोगों को बहुत पंसद आता है। यही कारण है कि इतने कम समय में इन्होंने 200 से भी ज्यादा शॉर्ट फिल्मों का प्रोडक्शन कर चुके हैं। इन्हें भोपाल से कितना लगाव है इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि इन्होंने इन फिल्मों में एक्टिंग के लिए 50 से ज्यादा एक्टर्स भोपाल से ही लिये। इन फिल्मों में भोपाल के एक्टर्स ने अपनी अदाकारी का जलवा बिखेरा है।

स्टार्टअप के लिए यह जरूरी है कि वे एक टीम में रहकर अपना अच्छा आउटपुट दें और “चाय स्टोरिज“ की यह खासीयत है कि इनकी टीम यह जानती और इसको अमल में कैसे लाना है। इसी का परिणाम है कि इन्होंने अब तक 20 से ज्यादा नेशनल और इंटरनेशनल अवॉर्ड जीते हैं। सिनेफोन इंटरनेशनल शॉर्ट फिल्म अवॉर्ड, बर्सीलोना स्पेन, ईडी फिल्म फेस्टिवल जर्मनी, मुम्बई इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल मुम्बई, पूजा भटट के द्वारा मोटोरोला स्पॉटलाइट मुम्बई, इम्तियाज अली के द्वारा स्पॉटलाइट मुम्बई, मंथन अवॉर्ड, फिक्की फ्रेम्स मुम्बई, पॉकेट फिल्म्स, गेटवे 13 फिल्म फेस्टिवल बैंगलोर, सिनिबीस शॉर्ट फिल्म अवॉर्ड चैन्नई, असीफा अवॉर्ड, जैसे कई अवॉर्ड अपने नाम कर चुके हैं।

“चाय स्टोरिज“ यानि हमारा मिनी बॉलीवुड जिसमें टीम ने कई बेहतरीन शॉर्ट फिल्मों का निर्माण किया जैसे कि ओल्ड एज होम्स पर आधारित “आसरा“, ईद स्पेशल “जकात“, स्वच्छता को लेकर “स्वच्छ भारत“, “सोलोमन“, “वेन दे मीट“। यही नहीं हाल ही में “वालिद“ को बिकानेर में आयोजित हुए एटीएस फिल्म फेस्टिवल में स्पेशल जूरी अवॉर्ड भी मिल चुका है। पिछले कुछ समय से भोपाल में कई फिल्मों व धारावाहिक की शूटिंग हो चुकी है। पिछले कुछ सालों में यहां का नेचर बॉलीवुड को भी भा रहा है तो फिर भला इसमें अपना मिनी बॉलीवुड कैसे पीछे रहता, इसलिए “चाय स्टोरिज“ की टीम ने अपनी ज्यादातर फिल्मों की लोकेशन्स के लिए भोपाल की खूबसूरत वादियों को ही चुना है।

अभिनय, मिनहाज, देवेश व उनकी पूरी टीम का कहना है कि हम आने वाले समय में सोशल इश्यू पर फिल्म प्रोडक्शन का मन बना रहे हैं। हम लोग हमारे काम के बल पर कान्स फिल्म फेस्टिवल में जाना चाहते हैं। हमने कई युवाओं को मौका दिया है कि वे अपनी एक्टिंग का टैलेंट दिखाए और एक्टिंग में भविष्य बनाएं। इसलिए हमसे और भी यंगस्टर्स जुड़ना चाहते हैं तो वे हमारी टीम के साथ जुड़ कर एक्टिंग में अपना कॅरियर संवार सकते हैं।

अभी कोई कमेन्ट नही!

कमेन्ट लिखें

Your data will be safe! Your e-mail address will not be published. Also other data will not be shared with third person.
All fields are required.