बुलंद इरादों ने बना दिया महिला को उद्यमी 

बुलंद इरादों ने बना दिया महिला को उद्यमी 
March 08 23:29 2019 Print This Article

Women Entrepreneur- जितेंद्र सूर्यवंशी, सिवनी जिले की  दीपमाला  ने पेश की नई मिसाल    
सिवनी। कहते हैं यदि इरादे बुलंद हों तो नामुमकिन भी मुमकिन हो जाता है। चाहे फिर काम कितना ही मुश्किल और पुरूषों की प्राथमिकता वाला ही क्यों न हो। ऐसे ही एक मुश्किल काम को आसान कर दिखाया है सिवनी जिले की 12वीं कक्षा तक पढ़ी—लिखी एक महिला ने, जिसकी पहचान अब महज एक घरेलू महिला की नहीं, बल्कि महिला उद्यमी के रूप में हो गई है।

निर्धन परिवार से ताल्लुक रखने वाली ये महिला ना सिर्फ सिवनी जिले में बल्कि देश विदेश में तक नाम कमा रही हैं। हम बात कर रहे हैं जिला मुख्यालय सिवनी निवासी महिला दीपमाला नंदन की, जिन्होंने उस व्यवसाय को चुना, जिसे एक महिला के लिए मुश्किल ही नहीं, नामुमकिन माना जाता है। महिला दीपमाला नंदन ने बैटरी निर्माण उद्योग को चुना और विपरीत परिस्थितयों का सामना करते हुए अपना स्वयं का बैटरी मैन्युफैक्चरिंग प्लांट स्थापित कर दिखाया, जो महिलाओं ही नहीं, पुरुष वर्ग के लिए भी एक मिसाल है।

महिला उद्यमी दीपमाला नंदन का बैटरी प्लांट सिवनी जिला मुख्यालय में स्थित है और वे EXLDE के नाम से बैटरी का निर्माण कर रही हैं। बैटरी की डिमांड सिवनी जिले के साथ ही संम्पूर्ण मध्यप्रदेश और देश के अन्य राज्यों में भी है। बैटरी उद्योग के लिए महिला उद्यमी को मध्यप्रदेश सरकार की ओर से रूस के सेंटपीटरबर्ग शहर में आयोजित हुए अंतरराष्ट्रीय ट्रेड फेयर में भी शिरकत करने के लिए आमंत्रित किया गया, जिसका प्रतिनिधित्व महिला के पति विजय नंदन ने किया।

इसलिए चुना व्यवसाय

इन्होंने बैटरी निर्माण उद्योग की शुरुआत वर्ष 2015—16 में की थी। अब आप सोच रहे होंगे कि आखिर महिला ने बैटरी निर्माण को ही अपना कैरियर या व्यवसाय क्यों चुना। महिलाओं से जुड़े अनेक ऐसे काम हैं जो आसानी से घर बैठे किए जा सकते हैं। इस पर उद्यमी दीपमाला नंदन कहती हैं कि घर में बैठकर महिलाओं वाले काम करके नाम नहीं कमाया जा सकता, मेरा उदेश्य पैसा कमाना मात्र नहीं है, बल्कि ऐसा काम करके दिखाना है जो महिलाओं के लिए मुश्किल समझा जाता है, बैटरी निर्माण उद्योग उनमें से एक है।

प्राय: बैटरी व्यवसाय पुरुष ही देखते हैं, ऐसे में एक महिला का बैटरी उद्योग से जुड़ जाना सबको आश्चर्यचकित कर रहा है। जिले सहित प्रदेश व अन्य राज्यों में बैटरी उद्योग से जुड़े कारोबार में सिवनी जिले की इस महिला के नाम और उसके बुलंद हौसलों की तारीफ भी हो रही है। मध्यप्रदेश हीं नहीं, भारत सरकार भी उक्त महिला उद्यमी के कामकाज की सराहना कर चुकी है। उन्होंने बताया कि वे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अपना प्रेरणास्त्रोत मानती हैं और उनके सभी भाषणों को वे सुनती हैं, जिन्हें सुनकर ही उन्हें जीवन में कुछ नया करने की प्रेरणा मिली है।
 
घरेलू कामकाज में असर नहीं 

बीते चार सालों से बैटरी उद्योग से जुड़ी महिला उद्यमी दीपमाला नंदन बताती हैं कि शुरुआत में कुछ सामाजिक दिक्कतों और विरोध का सामना भी उन्हें करना पड़ा, क्योंकि यह काम पुरुषों जैसा है, लेकिन उन्होंने हिम्मत नहीं हारी। उनके इस काम में उनके पति विजय नंदन ने उनका पूरा सहयोग किया। वे बताती हैं कि बैटरी निर्माण उद्योग संचालित करने के साथ ही वे घर की पूरी जिम्मेदारी भी बखूबी निभाती हैं, अब उनके घरेलू कामकाज पर भी कोई असर नहीं पड़ता, उद्योग और घर का संतुलन पूरी तरह बना हुआ है। उनका कहना है कि यदि आप कुछ अलग करने की ठान लेते हैं तो कुछ भी नामुमकिन नहीं है।

अभी कोई कमेन्ट नही!

कमेन्ट लिखें

Your data will be safe! Your e-mail address will not be published. Also other data will not be shared with third person.
All fields are required.