भोपाल के अजय चौबे को यंग इंजीनियर्स अवॉर्ड

भोपाल के अजय चौबे को यंग इंजीनियर्स अवॉर्ड
January 24 12:08 2019 Print This Article

Young Engineers Award – भोपाल। शहर के इंजीनियर और प्रोफेसर अजय कुमार चौबे द इंस्टीट्यूशन ऑफ इंजीनियर्स, कोलकता की ओर से यंग इंजीनियर्स अवार्ड-2019 से नवाज़े गए हैं। मौलाना आज़ाद नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (मैनिट) से एमटेक और पीएचडी करने वाले प्रो. अजय कुमार को रिसर्च फील्ड में अपने योगदान के लिए सीएसआईआर-नेशनल मेटलर्जिकल लेबोरेटरी (CSIR-NML), जमशेदपुर में आयोजित कार्यक्रम में यह सम्मान प्रदान किया गया।

Ajay kumar chouby

प्रोफेसर चौबे इंडिया के इकलौते इंजीनियर हैं, जिन्हें 2019 में यह पुरस्कार दिया गया। यह कार्यक्रम टाटा स्टील लिमिटेड के सहयोग से 18-19 जनवरी 2019 को आयोजित किया गया था। जमशेदपुर में एडवांसेस इन इंजीनियरिंग मटेरियल्स फॉर सस्टेनेबल डेवलपमेंट पर आयोजित नेशनल सेमिनार के उद्घाटन सत्र के दौरान टाटा स्टील लिमिटेड के ग्लोबल सीईओ और एमडी टी.वी. नरेंद्रन,

सीएसआईआर-एनएमएल, जमशेदपुर के निदेशक, डॉ केके मेहरोत्रा, सीएमडी, मेकॉन लिमिटेड, रांची, डॉ अवनीश गुप्ता, उपाध्यक्ष, साझा सेवाएँं टाटा स्टील, JLC IEI के अध्यक्ष और डॉ पीएन चौधरी, मुख्य वैज्ञानिक, CSIR-NML जमशेदपुर, डॉ अमोल गोखले, प्रोफेसर, IIT बॉम्बे और पैनल ऑफ़ डिफेंस में सलाहकार मंत्री की उपस्थिति में दिया गया।

अजय कुमार चौबे के पास रिसर्च और डेवलपमेंट क्षेत्र में अच्छा-खासा अनुभव है। देश की प्रतिष्ठित नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजीज़(एनआईटी) के अलावा इंडियन काउंिसल ऑफ एग्रीकल्चरल रिसर्च (आईसीएआर), काउंसिल ऑफ साइंटफिक एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च (सीएसआईआर) और एमएचआरडी में पांच साल का शोध और शिक्षण अनुभव है।

इसके अलावा चार साल का शिक्षण और औद्योगिक अनुभव, 31 अंतरराष्ट्रीय-राष्ट्रीय शोध पत्र, आठ स्कोपस / आईएसबीएन अनुक्रमित पुस्तक अध्याय, एक विश्व बैंक रिपोर्ट, दो विश्व बैंक परियोजनाओं के साथ एसोसिएट, एमपीसीएसटी परियोजना में सह-पीआई, सिंगापुर जर्नल के संपादकीय बोर्ड सदस्य, एससीआई जर्नल के समीक्षक, 25 कार्यशालाओं / एसटीटीपी / सेमिनार आदि में भाग लिया और गैसीकरण-ब्रिकेटिंग प्रौद्योगिकी, सिमुलेशन और मॉडलिंग, शीट धातु बनाने, मेक्ट्रोनिक तकनीक में काम के लिए वह इस पुरस्कार के लिए चुने गए। प्रो. चौबे कहते हैं ‘मुझे बहुत ही गर्व महसूस हो रहा है क नेशनल लेवल पर मुझे ये अवॉर्ड मिला। मैं अपने शोध कार्यों को इसी तरह जारी रखूंगा और देश का नाम रोशन करूंगा।

अभी कोई कमेन्ट नही!

कमेन्ट लिखें

Your data will be safe! Your e-mail address will not be published. Also other data will not be shared with third person.
All fields are required.